Monday, December 9, 2019

इंसान

भूखा है नंगा है डरा है
हर चौराहे पर इंसान खड़ा है

हर तरफ देशभक्ति का जलवा है
कोई बेच रहा दातून कोई गंजी
आम इंसान, खाने को दो रोटी नहीं

देश का हर नेता है महान
कभी वह भी था इंसान
सत्ता का मद हो चला इतना भारी
फर्क नहीं पड़ता बहे खून या पानी

No comments:

Post a Comment