Tuesday, April 10, 2018

नटखट छोटा बच्चा हूँ मैं




नटखट छोटा बच्चा हूँ मैं यो

यहाँ मत जाओ वहाँ मत जाओ
ये मत करो वो मत करो
ये मत बोलो वो मत बोलो
इतनी चूं चा में तो बस रो लो

नटखट छोटा बच्चा हूँ मैं यो

रोटी दाँतों में चुभती
सब्जी गले में दर्द करती 
चावल की शक्ल नहीं पसंद 
चॉकलेट है कोई क्यों नहीं लाता 


नटखट छोटा बच्चा हूँ मैं यो

सुबह सवेरे मुझे उठा देते
नहा धोकर स्कूल भगा देते
स्कूल में मैडम बहुत पढ़ाती
इतना पढ़ा पढ़ा कर है सताती

नटखट छोटा बच्चा हूँ मैं यो

कार्टून देखना बस मुझे पसंद
चाहूं हमेशा खेलूँ हरदम
घूमते रहूं मेरी गो राउंड में
खेलते रहूं प्ले ग्राउंड में

नटखट छोटा बच्चा हूँ मैं यो

काश बड़े भी हम जैसे होते
हंसते खेलते और मस्त रहते
लड़ते नहीं छोटी बातों में
घिरते नहीं धर्म भाषा के खातों में

नटखट छोटा बच्चा हूँ मैं यो

More Poems

No comments:

Post a Comment