Sunday, January 24, 2016

शायरी नहीं बदलती रस बदल जाते हैं

शायरी नहीं बदलती रस बदल जाते हैं
इबादत नहीं बदलती खुदा बदल जाते हैं
कहानी नहीं बदलती किरदार बदल जाते हैं
रास्ते नहीं बदलते मंज़िलें बदल जाती हैं


on a little lighter note for my daughter

Maths नहीं बदलती टीचर बदल जाते हैं



No comments:

Post a Comment