Wednesday, April 14, 2021

तांडव

 मौत हर राह पर खड़ी है

दरवाज़े के पीछे
बिस्तर के नीचे
आज उसका तांडव है
रिश्ते मायने नहीं रखते
हाथ खिलौनों से खेलने वाले हैं
या जिंदगी का हल जोतने वाले
आपका धर्म आपकी जाती आपका ओहदा
फर्क नहीं पड़ता है उसे
मौत तो आज बस मौका ढूंढ रही
उसकी भूख आज अथाह है

इंसान महान प्राणी है
ढूंढता अपनी पहचान है
इतिहास धर्म आस्था के पन्नो में
जहां जरूरत पड़ती है
सुविधानुसार पन्ने चिपका देता है
सच या झूठ तो बस कल्पना है
मौत ठहाके लगाकर हंसती है
लंबे नखों से प्राण उठाती है
झोली में भर लेती है

खोएंगे हम बहुत इंसानों को
जब तक थमेगा मौत का तांडव
और फिर खोएंगे हम वापस
इंसानों के फैलाये मायाजाल में
गाजर मूली की तरह तैयार होंगे
चंद इंसानों की भूख के लिए
मौत कोने में मंद मंद मुस्करायेगी
अपने नखों को तराशती






No comments:

Post a Comment